विदेश

सुषमा स्वराज : चीन और भारतीय सीखें एक दूसरे की भाषा

बीजिंग। भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भारत और चीन के नागरिकों से एक दूसरे की भाषा सीखने को कहा है। इससे उनके बीच संवाद की बाधाएं दूर हो जाएगी और दोनों पड़ोसी देशों के बीच संबंध मजबूत होंगे।

विदेश मंत्री चार दिनों की चीन यात्रा पर आई हुई हैं। भारतीय दूतावास द्वारा भारत-चीन मैत्री में हिंदी का योगदान विषय पर आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने यह कहा।

स्वराज ने कहा, “जब दो दोस्त एक साथ बैठेंगे तो वे क्या करेंगे? दोनों एक दूसरे से दिल की बात करना चाहेंगे, अपना अनुभव साझा करना चाहेंगे। और इसी के लिए हमें भाषा की जरूरत होती है। मुझे चीनी भाषा समझने में सक्षम होना होगा और आपको हिंदी समझने में। जब एक दुभाषिया दो मित्रों के बीच बैठा हो तो वह शब्दों का अनुवाद कर सकता है लेकिन वह भावना का अनुवाद नहीं कर सकता। इसलिए हमें भाषा सीखने और समझने की जरूरत है।”

Comment here