विदेश

बस ड्राइवर्स जापान में की अनोखी हड़ताल, बस तो चला रहे लेकिन नहीं ले रहे किराया

टोक्यो। भारत में अगर कोई ट्रांसपोर्ट यूनियन हड़ताल करती है तो उसका सीधा आसर आम लोगों पर पड़ता है। लोगों को ना तो आने जाने के साधन मिलते हैं और ना ही दूसरी सुविधाएं। लेकिन जापान में बस ड्राइवरों ने जो हड़ताल की है उससे आम लोगों को नुकसान नहीं बल्कि फायदा हो रहा है। यहां एक बस कंपनी के ड्राइवर्स हड़ताल पर चले गए हैं और इस दौरान वो बस में सवार होने वाले यात्रियों से किराया नहीं वसूल रहे।

जापान टूडे की खबर के अनुसार यहां के ओकायामा शहर में एक बस कंपनी के ड्राइवरों ने कंपनी से अपनी मांगे मनवाने के लिए हड़ताल कर दी है। उनकी इस हड़ताल से जहां बस कंपनी और प्रशासन दुखी है वहीं आम लोगों का खूब फायदा हो रहा है। दरअसल ये बस ड्राइवर हड़ताल के नाम पर यार्ड में बसें खड़ी करके धरना प्रदर्शन नहीं कर रहे, बल्कि सड़कों पर पूरे दिन और रात बसें दौड़ा रहे हैं और यात्रियों को सफर भी करा रहे हैं। बस खास बात यह है कि सफर के बदले यात्रियों से कोई पैसे नहीं ले रहे हैं। अब आप समझ गए होंगे कि फ्री में यात्रियों को सफर कराने वाले ये बस ड्राइवर वाकई कमाल की हड़ताल पर हैं।

टिकट मशीनों को कंबल से ढका

खबरों के अनुसार ओकायामा सिटी में रायोबी ग्रुप नाम की बस कंपनी सालों से सिटी बसों का संचालन कर रही है। हाल ही में जब इस ग्रुप की बसों के पॉपुलर रूट्स पर एक नई बस कंपनी मेगरिन ने सस्ते किराए के साथ अपनी बसें उतार दीं, तो इस कदम से रायोबी के बस ड्राइवरों के कलेक्‍शन में भारी कमी आ गई। स्थिति ऐसी बनी कि अगर ऐसे ही चलता रहा तो ग्रुप अपनी बसों का संचालन बंद भी कर सकता है। ऐसे में इस कंपनी के बस ड्राइवरों की जॉब पर संकट मंडराने लगा है। इनकी हड़ताल की वजह भी यही है।

आखिरकार बेहतर जॉब सिक्योरिटी की अपनी मांगों के साथ ये बस ड्राइवर पिछले हफ्ते से एक अनोखी हड़ताल पर चले गए, जिसमें उन्होंने बसों का संचालन बंद नहीं किया बल्कि यह पूरी तरह से सामान्‍य चल रहा है। बस फर्क यह पड़ा कि यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के बावजूद ये बस ड्राइवर उनसे कोई भी किराया नहीं ले रहा है। इससे बस कंपनी को रोज का काफी नुकसान हो रहा है। किराया लेने के लिए ड्राइवरों ने बस में लगी टिकट फेयर मशीन को कंबल से ढक दिया है। कंबल से ढकी हुई इन मशीनों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर जबरदस्त वायरल हो चुकी हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close