विदेश

ज्वालामुखी विस्फोट अमेरिका के हवाई में, हवा में 200 फुट तक उछला लावा

पहोवा : अमेरिकी राज्य हवाई के किलाएवा ज्वालामुखी विस्फोट से तबाह होने वाले घरों की संख्या बढ़कर 21 हो गई है. वैज्ञानिकों के अनुसार विस्फोट इतना तेज है कि लावा हवा में 61 मीटर (200 फुट) ऊपर तक उछल रहा है. ज्वालामुखी उद्गार के कारण घर से सुरक्षित स्थानों पर ले जाये गये 1700 से अधिक लोगों के जल्द वापसी की कोई संभावना नजर नहीं आ रही है. हवाई के अधिकारियों ने बताया कि तबाह हुए घर लीलानी एस्टेट उपखंड में हैं जहां ज्वालामुखी उद्गार के कारण जगह-जगह जमीन फट गई है जिससे विषाक्त गैस और भाप निकल रहा है.

हवाई की प्रवक्ता ने जैनेट सैंडर ने कहा, अभी तो सिर्फ 21 घरों के तबाह होने और कुछ लोगों की मौत पुष्टि गई है, लेकिन वक्त के साथ आंकड़ों में बदलाव आ सकता है, यह पीड़ादायक है. अमेरिकी जियोलॉजिकल सर्वे वोल्कैनलॉजिस्ट वेंडी स्टोवैल ने कहा, ज्वालामुखी विस्फोट दोबारा हो सकता है. उन्होंने कहा कि ज्वालामुखी के अंदर अभी और मैग्मा जमा हुआ है जो वक्त के साथ निकस सकता है. उन्होंने इस बात की भी पुष्टि की जब तक ज्वालामुखी से पूरी तरह से मैग्मा नहीं निकल जाता, तब तक ऐसा होता रहेगा.

मंगल ग्रह पर दो अरब साल पुराने ज्वालामुखी का पता चला

भूकंप के झटकों के बाद हुआ ज्वालामुखी विस्फोट
उल्लेखनीय है कि अमेरिका में कुछ दिनों पहले भूकंप के झटकों के बाद ज्वालामुखी विस्फोट हुआ. ज्वालामुखी विस्फोट के बाद अमेरिकी भूगर्भीय सर्वेक्षण का कहना है कि सबसे गंभीर भूकंप के झटके की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर पांच मापी गई. एजेंसी ने कहा कि यह झटका गुरुवार (3 मई) सुबह आया और महज आधा घंटे के भीतर दो अन्य भूकंप के झटकों ने इलाके को हिला कर रख दिया. इनकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 2.5 व 2.7 मापी गई. दुनिया के सबसे सक्रिय ज्वालामुखी किलाउए के फटने के बाद से देश में करीब 205 भूकंप के झटके आ चुके हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close