छत्तीसगढ़

एक-एक सीट पर 100 से भी अधिक दावेदार, MBBS की 1100 में से 250 सीट स्थायी

रायपुर। रविवार को मेडिकल, डेंटल कॉलेजों की ग्रेजुएशन (स्नातक) सीट के लिए ‘नीट’ आयोजित गई। परिणाम जारी होने के बाद संघर्ष एक-एक सीट को लेकर होगा, एक-एक सीट पर 100 से भी अधिक दावेदार हो सकते हैं। प्रदेश में एमबीबीएस की कुल 1100 सीट हैं, लेकिन इनमें से सिर्फ 250 सीट पर ही स्थायी मान्यता है, जबकि पिछले साल एक निजी और एक सरकारी मेडिकल कॉलेज जीरो ईयर हो था। पिछले साल ही राज्य को 250 सीटों का नुकसान उठाना पड़ा था। इस साल फिर से सभी ने आवेदन किया है, मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया एमसीआई) का निरीक्षण जारी है।

‘नईदुनिया’ ने सबसे पहले बताया था कि तीन निजी कॉलेजों को तो मान्यता न देने के लिए केंद्र से अनुशंसा की जा चुकी है, जबकि राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज पर फैसला स्थगित कर दिया गया। जल्द ही शेष कॉलेजों की मान्यता संबंधित रिपोर्ट जारी की जाएगी। प्रदेश में रायपुर मेडिकल कॉलेज छात्रों की पहली प्राथमिकता होती है, लेकिन छात्र अपने मूल-निवास वाले कॉलेजों को पहले प्राथमिकता देते हैं। मेडिकल की सभी सीट पिछले साल भर गई थी, इस साल चुनौती होगी डेंटल कॉलेजों के लिए। बता दें कि मैनेजमेंट सीट पर भी चिकित्सा शिक्षा संचालनालय ही दाखिला देगा, फीस विनियामक आयोग शुल्क का निर्धारण करेगा।

प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस सीटों की स्थिति

शासकीय कॉलेज

पं. जवाहरलाल नेहरू मेमोरियल मेडिकल कॉलेज, रायपुर- 150 सीट (सभी पर स्थाई मान्यता)

छत्तीसगढ़ इंस्टिट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेस (सिम्स) बिलासपुर- 150 सीट (50 पर मान्यता न देने की अनुशंसा)

स्व. बलीराम कश्यप मेमोरियल मेडिकल कॉलेज, जगदलपुर- 100 सीट (मान्यता का फैसला नहीं हुआ है)

स्व. लखीराम अग्रवाल मेमोरियल मेडिकल कॉलेज, रायगढ़- 50 सीट ((मान्यता का फैसला नहीं हुआ है)

राजनांदगांव मेडिकल कॉलेज, राजनांदगांव- 100 सीट (मान्यता संबंधित फैसला स्थगित किया गया है)

अंबिकापुर शासकीय मेडिकल कॉलेज, अंबिकापुर- 100 सीट (पिछला साल जीरो ईयर था)

निजी कॉलेज

स्व. चंदूलाल चंद्राकर मेमोरियल मेडिकल कॉलेज, दुर्ग- 150 सीट (मान्यता न देने के लिए केंद्र से अनुशंसा हुई)

शंकराचार्य इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंस, दुर्ग- 150 सीट (अभी मान्यता को लेकर कोई अनुशंसा नहीं की गई )

रायपुर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स), रायपुर- 150 सीट (पिछला साल जीरो ईयर था)

प्रदेश के डेंटल कॉलेजों में बीडीएस सीटों की स्थिति

प्रदेश में सिर्फ एक ही शासकीय डेंटल कॉलेज है, जिसमें बीडीएस की 100 सीट हैं। शेष पांच निजी कॉलेजों में 100-100 सीट हैं यानी कुल बीडीएस सीट की संख्या 600 है।इनमें से निजी कॉलेजों की 50 सीट राज्य कोटा, जबकि शेष 50 सीट मैनेजमेंट कोटा की होती हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close