देश

पाकिस्तान की ओर से LoC पर रातभर फायरिंग, BSF का एक जवान शहीद, लोगों से बाहर नहीं निकलने की अपील

श्रीनगर: जम्मू में शुक्रवार (18 मई) तड़के सीमा से लगी चौकियों और गांवों में पाकिस्तान रेंजर्स की ओर से की गई भारी गोलाबारी में बीएसएफ के एक जवान और चार नागरिकों की मौत हो गई और 12 अन्य लोग घायल हुए हैं. जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तीसरे दिन गोलाबारी और गोलीबारी हुई है. यह घटना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जम्मू कश्मीर के कल होने वाले आधिकारिक दौरे से एक दिन पहले हुई है. बीएसएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने जम्मू के आर एस पुरा, बिश्नाह, अरनिया सेक्टरों में देर रात करीब एक बजे से मोर्टार दागना और गोलीबारी करना तेज कर दिया है. उन्होंने बताया कि सीमा पर तैनात बीएसएफ के जवानों ने हमलों का जवाब दिया.

अधिकारी ने बताया कि शहीद जवान की पहचान 192 बटालियन के 28 वर्षीय कांस्टेबल सीताराम उपाध्याय के तौर पर हुई है. वह जब्बोवाल सीमा चौकी पर रात करीब डेढ़ बजे गंभीर रूप से घायल हो गए थे. जम्मू के जीएमसी अस्पताल ले जाते समय उन्होंने रास्ते में ही दम तोड़ दिया था. अधिकारी ने बताया कि वह झारखंड के गिरीडीह के रहने वाले थे और 2011 में बल में शामिल हुए थे. उपाध्याय के परिवार में तीन वर्षीय बेटा और एक वर्षीय बेटी है.

पाकिस्तान की ओर से हो रही गोलीबारी को देखते हुए भारत – पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर अरनिया में लोगों से अपील की गई है कि वे घर से बाहर न निकलें. प्रशासन ने अंतर्राष्ट्रीय सीमा से लगे 3 किलोमीटर के दायरे में स्थित सभी स्कूलों को बंद करने के निर्देश जारी किए हैं.

सीमा सुरक्षा बल के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘16 और 17 मई की दरमियानी रात हीरानगर इलाके में गोलीबारी हुई जिसमें बीएसएफ का एक जवान घायल हो गया. कल दिन में गोलीबारी रुक गई थी, लेकिन पाकिस्तान ने कल (17 मई) रात अरनिया सेक्टर में फिर गोलीबारी शुरू की जिसमें आज (18 मई) सुबह एक जवान की मौत हो गई.’’ अधिकारी ने बताया कि जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास आरएस पुरा सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से बिना किसी उकसावे के आज सुबह करीब चार बजे मोर्टार दागे गए और भारी गोलीबारी की गई. बीएसएफ बल ने भी इसका माकूल जवाब दिया.

अधिकारी ने बताया कि बीएसएफ के सहायक उप – निरीक्षक पित्तल सीमा चौकी पर घायल हो गए थे और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. अतिरिक्त जिला विकास आयुक्त अरुण मनहास ने बताया कि आर एस पुरा और अरनिया सेक्टरों में पाकिस्तान की ओर से भारी गोलाबारी एक दंपति सहित चार लोग मारे गए और 12 अन्य लोग घायल हो गए. आर एस पुरा के एसडीपीओ साहिल पराशर ने बताया कि गोलाबारी ग्रस्त इलाकों से घायलों को निकालने और उन्हें अस्पताल पहुंचाने के लिए पुलिस बुलेटप्रूफ वाहनों का इस्तेमाल कर रही है. गोलाबारी के मद्देनजर प्रशासन ने आश्रय स्थलों को सक्रिय कर दिया है.

इससे पहले जम्मू एवं कश्मीर के सांबा जिले में गुरुवार (17 मई) को भी अंतर्राष्ट्रीय सीमा (आईबी) पर पाकिस्तानी रेंजर्स द्वारा की गई गोलीबारी में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) का एक जवान घायल हो गया था. पाकिस्तानी रेंजर्स ने बिना उकसावे के सांबा और हीरानगर सेक्टर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर गोलीबारी की. रेंजर्स ने करीब दर्जनभर बीएसएफ सीमा चौकियों को निशाना बनाया था.

वहीं, मंगलवार (15 मई) को सांबा में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी गोलीबारी में बीएसएफ का एक कांस्टेबल शहीद हो गया था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 19 मई को जम्मू एवं कश्मीर दौरे के ठीक दो दिन पहले पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम का उल्लंघन हुआ है.

बंदीपोरा में आतंकी हमला
जम्मू एवं कश्मीर के बांदीपोरा जिले में शुक्रवार (18 मई) को आतंकवादियों ने सेना के एक गश्ती दल पर हमला किया. हालांकि, इस हमले में किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है. सेना सूत्रों के मुताबिक, आतंकवादियों ने हाजिन क्षेत्र में सेना के गश्ती दल पर हमला किया. सूत्रों के मुताबिक, “इसके बाद दोनों ओर से गोलीबारी शुरू की गई, जिस बीच आतंकवादी बचकर भाग निकलने में कामयाब रहे. हमारी तरफ से कोई हताहत नहीं हुआ. क्षेत्र को चारों ओर से घेर लिया गया है.”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close