छत्तीसगढ़

फसलों का प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत् बीमा कराने की अंतिम तिथि 31 जुलाई

धमतरी |जिले में खरीफ वर्ष 2018 में धान सिंचित/असिंचित, मक्का, सोयाबीन, मूंगफल्ली, तुअर (अरहर), मूंग एवं उड़द फसलों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत् अधिसूचित किया गया है। इसका क्रियान्वयन एच.डी.एफ.सी.-ई.आर.जी.ओ. जनरल इंश्योरेंस कंपनी द्वारा किया जा रहा है। योजना के तहत् सभी किसानों के लिए बीमा कराने की समय सीमा 31 जुलाई 2018 नियत की गई है। उप संचालक कृषि ने बताया कि प्रत्येक ऋणी किसानों के लिए बीमा अनिवार्य तथा अऋणी किसानों के लिए ऐच्छिक हैं। उन्होंने ज्यादा से ज्याद किसानों को इस योजना का लाभ उठाने कहा है।
बताया गया है कि प्रत्येक अधिसूचित फसल के लिए बीमित राशि एवं प्रति हेक्टेयर दो प्रतिशत की दर से प्रीमियम की राशि तय की गई है, जिसके तहत् धान सिंचित की बीमित राशि प्रति हेक्टेयर 45 हजार और किसानों द्वारा प्रदत्त प्रीमियम राशि 900 रूपए है। धान असिंचित, सोयाबीन और मूंगफल्ली में बीमित राशि 30 हजार रूपए तथा किसानों द्वारा देय प्रीमियम राशि 600 रूपए है। इसी तरह अरहर की बीमित राशि 25 हजार रूपए एवं कृषकों द्वारा प्रदत्त प्रीमियम राशि 500 रूपए, मक्का की बीमित राशि 20 हजार रूपए और किसानों द्वारा प्रदत्त प्रीमियम 400 रूपए तथा मूंग और उड़द की बीमित राशि 15 हजार रूपए और किसानों द्वारा प्रदत्त प्रीमियम राशि 300 रूपए निर्धारित की गई है।
उप संचालक कृषि ने जिले के ऋणी/अऋणी किसानों से अपील की है कि वे बीमा का ज्यादा से ज्यादा लाभ लेने के लिए 25 जुलाई के पहले निकटतम च्वाईस सेंटर, वाणिज्य बैंक, छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक, सहकारी बैंक में फसल बीमा करा लें, ताकि अनावश्यक भीड़ और असुविधा से बचा जा सके। फसल बीमा कराने के लिए उन्हें आधार कार्ड और पास बुक की छायाप्रति जिसमें आई.एफ.एस.सी.कोड एवं खाता नंबर हो, भूमि संबंधी सम्पूर्ण दस्तावेज, जिसमें खसरा नंबर और बी-1 की छायाप्रति लगाना होगा। साथ ही फसल बोनी प्रमाण पत्र, जिसमें पटवारी, सरपंच एवं ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी के हस्ताक्षर हांे, जमा करना होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close