छत्तीसगढ़

मेडिकल कॉलेज और सैनिक स्कूल सरगुजा क्षेत्र की है शान

डॉ. रमन सिंह ने सरगुजा क्षेत्र की जनता की आकांक्षाओं को पूर्ण करने किया गया हर संभव प्रयास

रायपुर : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि मेडिकल कॉलेज और सैनिक स्कूल पूरे सरगुजा क्षेत्र की शान है। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के लिए इनसे कोई बड़ी योजना नहीं हो सकती है और मेडिकल कॉलेज भवन का शिलान्यास कर सरगुजा क्षेत्र के लिए आज इतिहास रचा जा रहा है, जो पीढ़ियों तक याद रहेगा। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह आज अटल विकास यात्रा के दौरान सरगुजा जिले के दरिमा के साक्षरता स्टेडियम में आयोजित आमसभा को सम्बोधित कर रहे थे।

उन्होंने इस अवसर पर 374 करोड़ की लागत से बनने वाली मेडिकल कॉलेज भवन का शिलान्यास करने सहित कुल 650 करोड़ रूपये के लागत के विभिन्न निर्माण कार्यो का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया तथा विभिन्न योजनाओं के तहत हितग्राहियों को स्वीकृति पत्र और तेन्दूपत्ता बोनस का भी भुगतान किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि अटल विकास यात्रा का आज लखनपुर, चांदो, कुसू, नानदमाली और दरिमा में ग्रामीणजनों द्वारा अभूतपूर्व स्वागत किया गया। उन्होंने कहा कि अटल विकास यात्रा के दौरान आज जगह-जगह महिलाओं, बुजुर्गो ने अपने घरों से निकलकर बड़ी संख्या में आत्मीय स्वागत किया, जिसके लिए मैं उनके प्रति ह्रदय से आभारी हूँ। डॉ. सिंह ने कहा कि जहां के लोगों ने जो अपनत्व और प्यार दिखाया है तथा महिलाओं ने एक मुख्यमंत्री का नहीं, बल्कि एक भाई का स्वागत किया है। डॉ. सिंह ने कहा कि जब मैं प्रथम बार मुख्यमंत्री बनकर यहां आया था और सरगुजा को गोद लिया था तब यहां अधोसंरचनाओं की बड़ी कमी थी। आज गांव-गांव में शिक्षा, स्वास्थ्य और सड़क आदि अधोसंरचनायें बड़ी संख्या में निर्मित कराई गई हैं। उन्होंने कहा कि सरगुजा क्षेत्र के लोगों में मुझ पर जो विश्वास किया था मैं उन्हें पूरा करने का मैंने हर संभव प्रयास किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 15 वर्षो में न केवल सड़क, भवन आदि अधोसंरचनाओं का निर्माण कराया गया है, बल्कि आम आदमी के जीवन में परिवर्तन लाने के लिए योजनाएं बनाकर उनका बेहतर क्रियान्वयन किया गया है। उन्होंने कहा कि स्काई योजना के तहत महिलाओं को स्मार्टफोन मिलने से उनका स्वाभिमान बड़ा है। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि इस विकास यात्रा का नाम छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माता पूर्व प्रधानमंत्री स्व.अटल बिहारी बाजपेयी के नाम पर रखा गया है। उन्होंने कहा कि अगर स्वर्गीयबाजपेयी ने छत्तीसगढ़ राज्य का गठन नहीं किया होता, तो आज इस क्षेत्र का इतना तेजी से विकास नहीं हुआ होता। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वर्गीयबाजपेयी के सपनों के अनुरूप छत्तीसगढ़ का तेजी से विकास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में 750 करोड़ रूपये तेन्दूपत्ता बोनस और 2400 करोड़ रूपये धान का बोनस इस तरह 3 हजार 100 करोड़ रूपये से अधिक बोनस ही बांटा जाएगा।

उन्होंने कहा कि 12 लाख तेन्दूपत्ता संग्राहकों को चरण पादूका बांटा गया है। तेन्दूपत्ता संग्राहकों को चरण पादूका मिलने से अब उनके पैरों में कांटे नहीं गड़ते हैं और कांटे आदि के कारण पैरों में जख्म होने पर पैर काटने की नौबत अब नहीं पड़ती है। उन्होंने कहा कि वनवासी क्षेत्रों में शिक्षा को प्राथमिकता दी गई है और उड़ान योजना से बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के मजदूर का बेटा इण्डियन मेडिकल इंस्टीट्यूट में प्रवेश ले पाने में सफल रहा है।

डॉ. सिंह ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीयअटल बिहारी बाजपेयी द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य का गठन यहां के लोगों के विकास को ध्यान में रखते हुये किया गया है और स्वर्गीयअटल जी का सपना साकार हो रहा है। इस अवसर पर सरगुजा के लोकसभा सांसदकमलभान सिंह ने भी आमसभा को सम्बोधित किया। कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। आमसभा में गृह, जेल एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी तथा सरगुजा जिले के प्रभारी मंत्रीरामसेवक पैकरा, खेल एवं युवा कल्याण मंत्रीभईयालाल राजवाड़े, राज्यसभा सांसदरामविचार नेताम, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती फुलेश्वरी सिंह, अल्पसंख्यक आयोग के सदस्यप्रबोध मिंज, हस्तशिल्प बोर्ड के पूर्व अध्यक्षअनिल सिंह मेजर, राज्य सहकारी बैंक के संचालकअखिलेश सोनी, स्काउट गाईड के जिलाध्यक्षअनुराग सिंहदेव, सरगुजा संभाग के कमिश्नरटामन सिंह सोनवानी, सरगुजा रेंज के पुलिस महानिरीक्षकहिमांशु गुप्ता, पुलिस अधीक्षकसदानंद कुमार और जनप्रतिनिधि तथा विशाल जनसमूह उपस्थित था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close