Breaking News

कांग्रेस के ग्रह वक्रीय : भाजपा

 

कांग्रेस का ग्रह वक्रीय : भाजप.

पीसीसी का अर्थ प्रदेश क्रिमिनल कांग्रेस हो गया है.

जिस क्रिमिनल माइंडसेट के साथ कांग्रेस काम कर रही है वह बेहद अफसोसनाक है. सत्याग्रह को अपने घृणित अपराध के बचाव के रूप में दिखाना वास्तव में गांधी का अपमान है. कोई भी राजनीतिक दल ऐसी हरकत करे, इसकी उम्मीद नहीं थी. दुर्भाग्यपूर्ण है यह.

कांग्रेस को अपनी हार तय दिख रही है. हाल के राजनीतिक घटनाक्रम के बाद इस पार्टी को छत्तीसगढ़ में मुख्य विपक्षी दल के रूप में अस्तित्व बचना भी मुश्किल लग रहा है. ऐसे में अपनी प्रासंगिकता बचाए रखने के लिए ऊल-जुलूल हरकत कर कांग्रेस शर्मिंदा कर रही है समाज को. इसने महिलाओं का अपमान किया है. अश्लील सीडी बांट कर वास्तव में छत्तीसगढ़ को शर्मसार किया है.

तय हो चुकी हार और प्रदेश में अपनी दुर्गति की आशंका को देखते हुए कांग्रेस ने जिस तरह का नौटंकी किया है, ऐसा अन्य उदाहरण दुर्लभ है. आजतक किसी भी राष्ट्रीय पार्टी के अध्यक्ष ने इस तरह अश्लील सीडी को सरेआम वितरण किया हो, ऐसा नहीं हुआ है.

भाजपा पहले दिन से ही कहती रही है कि भूपेश बघेल यह सारा कुछ एक तय स्क्रिप्ट के तहत हो रहा है. आज के एक राष्ट्रीय अखबार को कांग्रेस के एक बड़े नेता ने जैसा बताया वैसा ही अक्षरशः अगले दिन हुआ, यानी सबकुछ एक तयशुदा ढंग से हो रहा था.

कांग्रेस छत्तीसगढ़ में भी बुरी तरह हार रही है. उनके पास मुद्दे नहीं है तो अब राष्ट्रीय नेतृत्व के साथ ही यहाँ की इकाई भी झूठ और साज़िश के सहारे अपनी प्रासंगिकता येनकैन प्रकारेण बनाए रखना चाहते हैं.

चुनाव में तरह-तरह के हथकंडे अपनाना कांग्रेस का शगल रहा है लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि आप लोकलाज तक को ताक पर रख दें. शर्मनाक है ज़मानत जैसी एक न्यायिक प्रक्रिया को ‘भीख’ कहना, जैसा कि प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पी. एल. पुनिया ने कहा है. ऐसा श्री पुनिया इस तथ्य के बावजूद कह रहे थे जबकि उनकी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष समेत अधिकाँश प्रमुख नेता फिलहाल ज़मानत पर हैं. आज स्क्रिप्ट के अनुसार ही भूपेश बघेल ने ज़मानत ले ली, तो क्या मिस्टर पुनिया की नज़र में उनकी पार्टी भिखारी है. या उनका अध्यक्ष इस तरह के पदवी का हकदार है?

अगर सीडी मामले में वकील नहीं ले कर भूपेश यह कह रहे थे कि वे चूकि निरपराध हैं इसलिए वकील नहीं रखेंगे, अब वकील रखा उन्होंने तो क्या अब यह मान लिया जाय कि ज़मीन कब्ज़ा संबंधित मामले समेत जो भी अन्य आपराधिक मामले कांग्रेस अध्यक्ष पर दर्ज हैं, उन सभी में वे अपराधी हैं? अगर ऐसा कबूल लिया है तब क्या ऐसे अपराधी को सार्वजनिक जीवन में रहना चाहिए?

हम सब जानते हैं कि कांग्रेस ने इस मामले में भी खुद ही सीबीआई जांच की मांग की थी, और आज भी जमानत का आवेदन नहीं देकर बघेल ने यह साबित किया है कि वे इस मुद्दे से चुनावी लाभ लेना चाहते हैं, यह कभी संभव नहीं होगा. बघेल ने समूचे छत्तीसगढ़ का सर शर्म से झुका दिया है. बघेल पर जिस तरह के घृणित कृत्य के आरोप हैं, ऐसा अमूमन आदतन अपराधी ही किया करते हैं.

छत्तीसगढ़ की एक अलग तासीर है. यहाँ के लोग कभी भी अपराधी मानसिकता के लोगों को सहन नहीं करते. पूर्व में भी ऐसे लोगों को यहां की प्रबुद्ध जनता ने बाहर का रास्ता दिखाया है.

प्रदेश में जब भी कांग्रेस सत्ता में रही है, ऐसे अपराधों को प्रश्रय देकर छत्तीसगढ़ जैसे शांत प्रदेश का माहौल खराब करती रही है.

About The Author

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *