January 21, 2022

Dainandini

Chhattisgarh Fastest Growing News Portal

भिवानी में पहाड़ दरकने से 20-25 लोग दबे:तीन शव निकाले गए, मरने वाले छत्तीसगढ़ और राजस्थान के मजदूर; बचाव कार्य जारी

रायपुर, 

हरियाणा के भिवानी जिले के तोशाम एरिया में शनिवार सुबह सुबह 8:30 बजे खनन के दौरान पहाड़ दरकने से 20 से 25 लोगों के दबने की खबर है। फिलहाल तीन मजदूरों के शव निकाले गए हैं। पहाड़ दरकने से गिरे सैकड़ों टन वजनी पत्थरों के नीचे कई पोकलेन मशीनें, ट्रक और अन्य वाहन भी दब गए हैं।

वहीं पहाड़ का जो हिस्सा गिरा है वह इतना बड़ा है कि उसे हटाने में ही कई दिन लग जाएंगे। पुलिस और प्रशासन ने मीडिया के घटनास्थल पर जाने पर पाबंदी लगा दी है।

भिवानी में पहाड़ टूटने से पोकलेन और अर्थमूविंग मशीनें भी दब गईं,
NGT की रोक के कारण तोशाम के डाडम एरिया में खनन कार्य पर रोक थी। शुक्रवार को ही यहां रोक हटने के बाद खनन कार्य शुरू हुआ था। शनिवार सुबह 8:30 बजे खनन के दौरान पूरा पहाड़ दर गया और उसके नीचे करीब 20 से ज्यादा लोग नीचे दब गए।

साथ ही मौके पर मौजूद ढुलाई के लिए खड़े वाहन और खनन के लिए इस्तेमाल की जा रही मशीनें भी दब गईं। सूचना मिलने के बाद प्रशासन ने राहत और बचाव कार्य शुरू करवाया। तीन लोगों के शव मलबे के नीचे से निकाले जा चुके हैं।

भिवानी में डाडम में पहाड़ के नीचे मजदूरों के दबे होने की आशंका है,
बचाव कार्य में आ रही है दिक्कत

 

घटना की सूचना के बाद प्रशासन ने राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिए हैं। पहाड़ दरकने के बाद गिरे पत्थरों हटाकर लोगों की तलाश शुरू कर दी है। बड़े-बड़े पत्थर गिरने के कारण उन्हें हटाने में दिक्कत आ रही है। पत्थरों को काटकर हटाने का प्रयास प्रशासन कर रहा है। दबे व्यक्तियों की संख्या को लेकर अभी कुछ स्पष्ट आंकड़ा सामने नहीं आ पाया है। घटनास्थल से दूर ही आम लोगों को रोका गया है।

घटना के बाद मौके का जायजा लेते कृषि मंत्री जेपी दलाल।

कृषि मंत्री दलाल और SP मौके पर पहुंचे

तहसीलदार रविंद्र कुमार ने बताया कि पत्थरों के नीचे से तीन शव निकाले जा चुके हैं। मृतक छत्तीसगढ़ और राजस्थान के मजूदर हैं। भिवानी सिविल सर्जन रघुबीर शांडिल्य ने बताया कि हादसे में काफी संख्या में कैजुअल्टी होने की आशंका है। वहीं कृषि मंत्री जेपी दलाल और भिवानी के SP अजीत सिंह शेखावत अमले के साथ मौके पर पहुंचे हैं।

फोरेस्ट एरिया की ओर दरका पहाड़

खानक-डाडम क्रशर एसोसिएशन चेयरमैन मास्टर सतबीर रतेरा ने बताया कि जिस समय घटना हुई, वहां कोई खनन कार्य नहीं हो रहा था। खनन क्षेत्र दोनों ओर से फोरेस्ट एरिया से घिरा है। फोरेस्ट एरिया क्षेत्र से हजारों टन का पहाड़ दरकर खनन क्षेत्र की तरफ आया। इसमें अभी तक पांच वाहनों के दबने की पुष्टि हो पाई है, इनकी संख्या ज्यादा भी हो सकती है।

भिवानी में पहाड़ दरकने के बाद राहत कार्य में लगे कर्मचारी
दो दिन पहले ही जारी किए गए कनेक्शन

खनन कार्य प्रदूषण के कारण प्रशासन ने लंबे समय से बंद करवा रखा था। दो दिन पहले ही खनन कार्य के लिए बिजली कनेक्शन प्रदूषण विभाग की NOC के बाद जारी हुए थे। लंबे समय से खनन पर रोक लगी थी। इसके विरोध में खनन कार्यो से जुड़े लोग धरना-प्रदर्शन कर रहे थे।

शुक्रवार को ही शुरू हुआ था खनन

भिवानी के तोशाम क्षेत्र में खानक और डाडम में बड़े स्तर पर पहाड़ खनन कार्य होता है। प्रदूषण के कारण 2 महीने पहले खनन कार्य पर रोक लग गई थी। NGT ने गुरुवार को खनन कार्य दोबारा शुरू करने की अनुमति दी। एनजीटी से अनुमति मिलने के बाद शुक्रवार से खनन कार्य शुरू हुआ। दो महीने तक खनन कार्य बंद रहने के कारण भवन निर्माण सामग्री की किल्लत भी महसूस की जा रही थी। इस किल्लत को दूर करने के लिए बड़े स्तर पर ब्लास्ट किए जाने की आशंका भी जताई जा रही हैं।