January 21, 2022

Dainandini

Chhattisgarh Fastest Growing News Portal

बच्चों के सेहत के प्रति गंभीर नजर नही आ रहा प्रशासन , कोविड संक्रमण का डर

भुवन पटेल

कवर्धा-कोविड जैसे महामारी बीमारी को देखते हुए लोगो के मन मे डर व्याप्त हैं । सरकार भी बचाव के लिए तरह तरह के उपाय अपना रहे हैं । राज्य के मंत्रालय और विभागाध्यक्ष कार्यालय को भी बन्द कर दिया है मतलब एक तिहाई अधिकारी कर्मचारियों की उपस्थिति अनिवार्य कर दिया है लेकिन छोटे -छोटे बच्चे जहां अध्ययन कर रहे हैं उन आंगनबाड़ी, स्कूलों को यथावत संचालित किया जा रहा है जो कभी भी खतरनाक साबित हो सकता है ।

बच्चों के प्रति गंभीर नही

छत्तीसगढ़ राज्य में कोरोना महामारी के तीसरा चरण अपना पैर पसार चुका है और राज्य के स्वास्थ्य मंत्री स्वयं चपेट में आ चुके हैं साथ ही मंत्रीगण, विधायक गण सहित हजारो की संख्या में प्रतिदिन धनात्मक मरीज चिन्हाकित किए जा रहे है जबकि इन सभी को कोविड वेक्सीन भी लग चुका है वही छोटे छोटे बच्चे जिन्हें न तो कोविड वैक्सीन लगा है न स्कूल आंगनबाड़ी केंद्रों में कोविड गाइडलाइन का पालन किया जा है । ऐसे में इन बच्चों को संक्रमित होने में थोड़ा भी समय नही लग पाएगा ।

कोविड गाइडलाइन का पालन नही

जिला प्रशासन के द्वारा कड़े निर्देश जारी किए है कि कोविड गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करे । पालन नही करने वालो के ऊपर कार्यवाही के आदेश भी जारी किए जा चुके हैं और यदाकदा हो भी रहा है बावजूद स्कूलों व आंगनबाड़ी केंद्रों में बिना सोसल डिस्टेंस व मास्क के बच्चों को देखा जा सकता है । अधिकांश स्कूल , आंगनबाड़ी केंद्रों में हाथ धोने के साबुन व हेंड सेनेटाइजर भी नही है ।

निरीक्षण का आभाव

अधिकारी-कर्मचारी कोविड जैसे भयंकर महामारी के डर से स्वयं बचने के उपाय खोज रहे है उनके द्वारा नियमित निरीक्षण भी नही किया जा रहा है जिसके चलते सामाजिक दूरी व कोविड से बचाव सम्बंधित नियमो का पालन नही हो रहा है ।