January 21, 2022

Dainandini

Chhattisgarh Fastest Growing News Portal

PM-डिफेंस मिनिस्टर उलझे:रक्षा मंत्री से बोले इमरान- मुझे ब्लैकमेल मत करो

रायपुर,

 

महंगाई और दिवालिया होने की कगार पर खड़े पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इन दिनों बौखलाए हुए हैं। अब उनके कैबिनेट मिनिस्टर्स ही खान की काबिलियत पर सवालिया निशान लगाने लगे हैं। गुरुवार को एक मीटिंग के दौरान इमरान खान अपने ही डिफेंस मिनिस्टर परवेज खटक से उलझ गए। दरअसल, खटक ने इमरान पर अपने राज्य की समस्याओं को सुलझाने के लिए कहा था। इस पर इमरान नाराज हो गए और कहा- आप कोई दूसरा वजीर-ए-आजम चुन लीजिए। जवाब में खटक ने कहा- आपको तो हमने ही प्रधानमंत्री बनाया है।

क्या है माजरा
गुरुवार को इमरान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) की पार्लियामेंट्री मीटिंग थी। इसमें मिनी बजट पास कराने पर चर्चा होनी थी, लेकिन हुआ कुछ और। मीटिंग शुरू होते ही डिफेंट मिनिस्टर परवेज खटक खड़े हुए और इमरान से कहा- मेरे राज्य खैबर पख्तूनख्वा पर जानबूझकर ध्यान नहीं दिया जा रहा। हम वहां इसीलिए लोकल बॉडी इलेक्शन हारे।

इमरान को अपने से उम्र में बड़े परवेज की यह गुस्ताखी नागवार गुजरी। उन्होंने कहा- अगर आपको मुझ से इतनी ही शिकायत है तो जाइए और कोई दूसरा वजीर-ए-आजम चुन लीजिए। आप मुझे ब्लैकमेल नहीं कर सकते।

खटक ने पलटवार में कहा- यह मत भूलिए कि आप हमारी ही बदौलत प्रधानमंत्री बन पाए हैं।

परवेज खटक ने इमरान खान को पीएम बनाने में वास्तव में बड़ी भूमिका निभाई थी।
सिगरेट फूंकने चले गए खटक
खटक ने इमरान के अगले जवाब का इंतजार नहीं किया। उन्होंने अपनी कुर्सी छोड़ी और मीटिंग से बाहर निकल गए। यहां मीडिया भी मौजूद था। पहले तो खटक कैमरों से बचते रहे, लेकिन वॉट्सअप के जरिए मीटिंग में हुई इस झड़प की खबर बाहर निकल आई। फिर मीडिया परवेज के पीछे पड़ गया। उन्होंने सिर्फ इतना कहा- मुझे सिगरेट पीने की आदत है। इसीलिए मैं मीटिंग से बाहर निकल आया। अंदर क्या बातें हुईं, इसके बारे में कुछ नहीं कहना चाहता।

हाल के कुछ महीनों में कई पार्टी नेता इमरान का साथ छोड़कर चले गए हैं
क्यों बौखला रहे हैं इमरान…
खैबर पख्तूख्वा को इमरान की पार्टी का गढ़ माना जाता है। परवेज खटक यहां के कद्दावर नेता हैं। हाल ही में यहां लोकल बॉडी इलेक्शन हुए। 8 साल से सत्ता पर काबिज पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (इमरान की पार्टी का नाम) को करारी शिकस्त मिली। इसके बाद इमरान ने राज्य की पार्टी यूनिट को ही बर्खास्त कर दिया। पार्टी के सीनियर लीडर्स का मानना है कि बेतहाशा महंगाई, बिजली और गैस की किल्लत के अलावा करप्शन हार की मुख्य वजहें हैं।

वैसे भी इमरान पर खराब परफार्मेंस की वजह से दबाव बढ़ता जा रहा है। कई नेता या तो पार्टी छोड़ गए हैं या रुखसत होने की तैयारी कर रहे हैं। ऊपर से खबरें ये भी हैं कि इस महीने या अगले महीने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ भी मुल्क वापसी कर रहे हैं और उनकी मिलिट्री से डील हो चुकी है। इमरान इन्हीं सब बातों के चलते आजकल बहुत अपसेट नजर आ रहे हैं।