July 26, 2021

Dainandini

Chhattisgarh Fastest Growing News Portal

” वास्तु शास्त्र से करें समस्याओं का समाधान “

घर के कमरों में हर दिशा में द्वार होना चाहिए

➡ अगर आप घर मे ईशान कोण में बच्चों के लिए पढ़ने का कमरा निकलना चाहते हैं तो उसका द्वार पूर्व या उत्तर में निकालने का जिद करते हैं तो यह कैसे सम्भव है ??

➡ ईशान कोण में अगर पूजा घर बनाया है तो उसका दरवाजा पश्चिम या दक्षिण से ही सम्भव हो पायेगा !!

➡ अगर किसी भवन में पूर्व और पश्चिम से लगकर कमरे बनाये गए हैं तो कुछ कमरों के द्वार पूर्व से और कुछ कमरों के द्वार पश्चिम से ही सम्भव हो पायेगा !!

➡ कुछ लोग जिद करते हैं कि सभी कमरों के द्वार ईशान कोण से हो !! तो ये क्या सम्भव है ??

➡ कुछ लोग ईशान से द्वार निकालने के चक्कर मे कमरों का द्वार बालकनी से निकालते है !!

➡ अगर घर में मान लो केवल इशान कोण में ही द्वार बनायेंगे तब ऐसे घर में रहने वाला व्यक्ति साधू प्रवृति का हो जायेगा !!
क्योंकि ईशान कोण का द्वार आध्यात्मिक ऊर्जा प्रदान करता है !!

➡ इशान में द्वार होने से केवल जल तत्व ही विकसित होगा !! क्या केवल एक तत्व को बढ़ाने से संतुलन स्थापित होगा ???

➡ वास्तु शास्त्र संतुलन की बात करता है ,संतुलन सभी तत्वों का होना चाहिए !!

➡ व्यक्ति के जीवन में तभी संतुलन आएगा जब सभी तत्वों में संतुलन रहेगा !!

( वास्तु प्रवास :-
Pt Deonarayan Sharma
वास्तु सलाहकार
+91 94252 07282
+91 83199 44101 )

➡ व्यक्ति को व्यापार/नौकरी भी करना है साथ ही साथ उसे परोपकारी भी होना चाहिए लेकिन दोनों में असंतुलन होने से जीवन में असफलता ही हाथ लगती है !!

➡ व्यक्ति का भौतिक और आध्यात्मिक जीवन दोनों सन्तुलन में होना चाहिए !!

➡ कुछ लोग अपना व्यापार व्यवसाय की अवहेलना करके केवल सामाजिक काम ही करते हैं इससे भी उनके जीवन मे असन्तुलन हो जाता है ।

➡ अगर पक्षी के एक पंख को काट दिया जाय तो क्या पक्षी उड़ पायेगा ??

➡ बगैर पंख के पक्षी की मौत निश्चित है ,इसलिए सन्तुलन बनाये रखिये ।

👉 वास्तु शास्त्र की सम्पूर्ण जानकारी के लिए वॉट्सएप्प ग्रुप को जॉइन करें:-
https://chat.whatsapp.com/GYOH6qlFis0DXYRcBqxbEv

👉 अपने मित्रों और सभी ग्रुप में अवश्य शेयर करें