October 28, 2021

Dainandini

Chhattisgarh Fastest Growing News Portal

चुनाव से पहले CM क्यों बदल देती है भाजपा ?

गुजरात में मोदी के अलावा भाजपा का कोई मुख्यमंत्री 5 साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर सका,

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। रुपाणी ने शनिवार को राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मिलकर अपने इस्तीफे की पेशकश की, जिसे स्वीकार कर लिया गया है। इस्तीफा देने के बाद रुपाणी ने कहा कि यह “भाजपा की परंपरा’ है और पार्टी सभी कार्यकर्ताओं को बराबरी से मौके देने पर भरोसा करती है। 65 वर्षीय रुपाणी अगस्त 2016 में मुख्यमंत्री बनाए गए थे, जब आनंदीबेन पटेल ने 75 वर्ष के होने पर अपनी उम्र को आधार बनाकर इस्तीफा दिया था। रुपाणी के नेतृत्व में ही भाजपा ने पाटीदार आरक्षण आंदोलन के बावजूद 2017 विधानसभा चुनावों में जीत हासिल की थी। गुजरात में 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में सिर्फ एक साल पहले मुख्यमंत्री के पद छोड़ने को लेकर कई सवाल खड़े हो गए हैं।

क्या गुजरात में ऐसा पहली बार हो रहा है?
अगले साल अक्टूबर-नवंबर में गुजरात में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में इस बदलाव को एंटी-इंकम्बेंसी कम करने की कवायद माना जा रहा है। इससे पहले 2017 के गुजरात विधानसभा चुनाव से साल भर पहले आनंदी बेन पटेल को हटाकर विजय रुपाणी को मुख्यमंत्री बनाया गया था।

आनंदी बेन मई 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद इस पद पर आई थीं। खुद मोदी भी इसी तरह के बदलाव के बाद पहली बार राज्य के मुख्यमंत्री बने थे। अक्टूबर 2001 में जब नरेंद्र मोदी को पहली बार मुख्यमंत्री बनाया गया, उस वक्त भाजपा के केशुभाई पटेल अपना चार साल का कार्यकाल पूरा कर चुके थे।

इस तरह के बदलाव की वजह क्या होती है?
एक्सपर्ट्स कहते हैं कि राजनीतिक पार्टियां मुख्यमंत्री बदलकर चार साल में पैदा हुई एंटी-इंकम्बेंसी को खत्म करने की कोशिश करती है। वहीं, दूसरी ओर पार्टी में जो विरोधी गुट होते हैं उन्हें चुनाव से पहले साधने की कोशिश की जाती है।

भाजपा में इस तरह के बदलाव का एक कारण जमीन से RSS को मिला फीडबैक भी बताया जाता है। RSS को ग्राउंड से मुख्यमंत्री के खिलाफ पैदा हुई नाराजगी का पता चलता है तो वो इस तरह के परिवर्तन के लिए कहती है।

तो क्या हर चुनाव से पहले भाजपा गुजरात में मुख्यमंत्री बदल देती है?
गुजरात में भाजपा 1995 में पहली बार सत्ता में आई थी। उस वक्त केशुभाई पटेल राज्य के मुख्यमंत्री बने। महज 221 दिन बाद ही उनकी जगह सुरेश मेहता मुख्यमंत्री बनाए गए। दरअसल, शंकर सिंह वाघेला और दीलिप पारिख का ग्रुप वाघेला को मुख्यमंत्री बनाने की मांग कर रहा था। उनके विद्रोह को दबाने के लिए केशुभाई की जगह मेहता को मुख्यमंत्री बनाया गया। भाजपा का ये फैसला भी ज्यादा काम नहीं आया। एक साल बीतते-बीतते वाघेला बगावत करके अलग हो गए और भाजपा सरकार गिर गई। वाघेला मुख्यमंत्री बने लेकिन वो भी कार्यकाल पूरा नहीं कर सके।

1998 में मध्याविधि चुनाव हुए और भाजपा 182 में से 117 सीट जीतकर फिर से सत्ता में आई। इस बार केशुभाई पटेल मुख्यमंत्री बने। केशुभाई इस बार भी अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सके। 2002 में होने वाले चुनाव से एक साल पहले भाजपा हाईकमान ने उनकी जगह नरेंद्र मोदी को मुख्यमंत्री बनाया। मोदी के नेतृत्व में भाजपा को 2002 के चुनाव में जीत मिली। मोदी पहले भाजपाई मुख्यमंत्री रहे जिसने एक नहीं बल्कि दो-दो कार्यकाल पूरे किए। 2014 में प्रधानमंत्री बनने तक मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री रहे, लेकिन मोदी के केंद्र की राजनीित में जाने के बाद भाजपा फिर उसी पैटर्न पर लौट आई है जिसमें, चुनाव से करीब एक साल पहले मुख्यमंत्री बदल दिया जाता है।

तो क्या ऐसा सिर्फ गुजरात में होता है?
ऐसा नहीं है। इससे हाल के कुछ उदाहरणों से समझा जा सकता है। जैसे उत्तराखंड में मार्च 2022 में चुनाव है। उससे करीब एक साल पहले भाजपा ने त्रिवेंद्र सिंह रावत की जगह तीरथ सिंह रावत को मुख्यमंत्री बना दिया। तीरथ रावत को महज 114 दिन में ही बदल दिया गया। उनकी जगह पुष्कर धामी मुख्यमंत्री बना दिए गए। कर्नाटक में भी हाल ही में बीएस येद्युरप्पा की जगह बसवराज बोम्मई को मुख्यमंत्री बनाया है। कर्नाटक में भी मई 2023 में चुनाव होने हैं।

क्या ये भाजपा की स्टाइल ऑफ वर्किंग है या दूसरी पार्टियों में भी इस तरह का चलन है?
गुजरात की बात करें तो 1957 में हुए दूसरे विधानसभा चुनाव के बाद से एक विधानसभा कार्यकाल में एक से ज्यादा मुख्यमंत्री बनने का चलन शुरू हो गया था। दूसरी विधानसभा के दौरान कांग्रेस के तीन मुख्यमंत्री बने। चौथी विधानसभा में भी कांग्रेस ने चुनाव से ऐन पहले मुख्यमंत्री बदल दिया था। पांचवीं विधानसभा में तीन मुख्यमंत्री बने। हालांकि, हर बार अलग पार्टी का नेता CM बना। 1980 से 19985 के दौरान सोलंकी CM रहे। सोलंकी के नाम सबसे कम समय के लिए CM रहने का भी रिकॉर्ड है। 1989 में वो महज 83 दिन के CM बने थे। सोलंकी के बाद नरेंद्र मोदी गुजरात ऐसे तीसरे नेता थे जिन्होंने मुख्यमंत्री के रूप में पांच साल का कार्यकाल पूरा किया। मोदी ने ये करिश्मा दो बार किया।

ऐसा भी नहीं है कि ये चलन सिर्फ गुजरात या भाजपा में है। देश का बाकी राज्यों और कांग्रेस में भी इस तरह के कई उदाहरण हैं जिसमें चुनाव से पहले मुख्यमंत्री को बदल दिया गया।

सबसे बड़ा सवाल रुपाणी ने इस्तीफा दे दिया तो अगला मुख्यमंत्री कौन होगा?

नए CM की रेस में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया, केंद्रीय मत्स्य एवं पशुपालन मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला, गुजरात के उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल और गुजरात भाजपा के अध्यक्ष सीआर पाटिल के नाम शामिल हैं। इनमें मंडाविया सबसे आगे बताए जा रहे हैं।