छत्तीसगढ़

कमार जनजाति की मांगों व समस्याओं का निराकरण

कमार विकास प्राधिकरण की स्थापना से विकास से जुड़ रहा समुदाय‘

गरियाबंद : प्रदेश के अनुसूचित जाति एवं जनजाति विकास मंत्री विकास एवं स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने आज विशेष पिछड़ी जनजाति कमार के राज्य स्तरीय नवाखाई समारोह में शामिल होकर कमार जनजातियों की विभिन्न मांगों व समस्याओं को सुना तथा उनका शत-प्रतिशत निराकरण आगामी 15 दिनों के भीतर पूर्ण करने के निर्देश सहायक आयुक्त आदिवासी विकास और अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) गरियाबंद को दिए। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह विकास के दृष्टिकोण से पिछड़े एवं वंचित लोगों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने कमार विकास प्राधिकरण की स्थापना की है तथा उन्हें जल, जंगल और जमीन का स्वाभिमानपूर्वक अधिकार दिलाया। उन्होंने आगे कहा कि प्राधिकरण के अस्तित्व में आने के बाद से कमार समाज को लगातार शासन की योजनाओं का लाभ मिल रहा है और विकास की ओर अग्रसर हो रहा है।

स्थानीय कृषि उपज मण्डी परिसर में आज दोपहर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए केबिनेट मंत्री कश्यप ने आगे कहा कि कमार समाज पहले अपनी सांस्कृतिक और पारम्परिक विरासतों से पहचाना जाता था, लेकिन अब इसकी अपनी विकास की मुख्य धारा में जुड़ने से हो रही है और इसका श्रेय प्रदेश सरकार को जाता है, जिसने कमार समुदाय से जुड़े लोगों के हितों की रक्षा के लिए योजनाएं संचालित कर लगातार विकास को अंजाम दे रही है। इस दौरान उन्होंने कमार जनजाति के शत-प्रतिशत लोगों का स्मार्ट कार्ड अगले 15 दिनों के भीतर बनाना सुनिश्चित करने के निर्देश सहायक आयुक्त को दिए। इसके अलावा शत-प्रतिशत पात्र हितग्राहियों को मुख्यमंत्री आबादी पट्टा वितरित करने तथा राशन कार्ड बनवाने के लिए भी निर्देशित किया। साथ ही विभाग की ओर से दिए जाने वाले निःशुल्क रेडियो, कम्बल, छाता का वितरण करने तथा गांवों के अलावा सभी मजरों-टोलों में भी बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया। समाज के वरिष्ठजनों की मांग पर उन्होंने बताया कि विशेष पिछड़ी जनजाति के शिक्षित लोगों को शासकीय सेवाओं में 20 प्रतिशत पर भर्ती करने का प्रावधान है तथा सहायक शिक्षक की नियुक्ति के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण करने की जानकारी दी। इसके अलावा विभिन्न विभागों की योजनाओं का लाभ लेने से छूटे हुए लोगों की सूची उपलब्ध कराने के भी निर्देश सहायक आयुक्त को दिए।

इसके पहले, बिन्द्रानवागढ़ विधानसभा क्षेत्र के विधायक एवं संसदीय सचिव गोवर्धन मांझी ने कमार समाज के लोगों को अन्य आदिवासी समाज की भांति विकास की मुख्य धारा से जुड़कर शासन की योजनाओं का लाभ लेने का आव्हान किया, साथ ही अपनी सांस्कृतिक व पारम्परिक पहचान को अक्षुण्ण रखने की भी अपील की। जिला पंचायत की अध्यक्ष डॉ. श्वेता शर्मा ने भी अपने उद्बोधन में कमार जनजाति को प्रदेश की विशिष्ट पहचान निरूपित करते हुए शासन की योजनाओं का लाभ लेते हुए नवाचारों को अपनाने का आव्हान किया। इस अवसर पर अनुसूचित जनजाति आयोग के उपाध्यक्ष विकास मरकाम, जिला पंचायत के उपाध्यक्ष पारस ठाकुर, नगरपालिका गरियाबंद की अध्यक्षमती मिलेश्वरी साहू सहित विभिन्न जिलों से आए कमार समाज के वरिष्ठजन तथा काफी संख्या में सामाजिकगण मौजूद थे।
समाचार क्रमांक/2642/सुनीता

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close