छत्तीसगढ़ / बालोद

जिले को दुर्घटना मुक्त जिला बनाने सभी अधिकारी-कर्मचारी सक्रिय सहभागिता सुनिश्चित करें : कलेक्टर

 समय-सीमा की बैठक में अधिकारियों को दिए निर्देश

 

बालोद । कलेक्टर इन्द्रजीत सिंह चन्द्रवाल ने बालोद जिले को दुर्घटना मुक्त जिला बनाने के अभियान में जिले के सभी अधिकारी-कर्मचारियों को सक्रिय सहभागिता सुनिश्चित करने को कहा है। जिससे कि जिले मेें सड़क दुर्घटना की रोकथाम की प्रभावी उपाय सुनिश्चित की जा सके। कलेक्टर श्री चन्द्रवाल आज संयुक्त जिला कार्यालय सभाकक्ष में आयोजित साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक में उपस्थित अधिकारियों एवं विभाग प्रमुखों को उक्ताशय के निर्देश दिए हंै। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डाॅ. संजय कन्नौजे, अपर कलेक्टर चन्द्रकांत कौशिक सहित राजस्व अनुविभागीय अधिकारियों के अलावा अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।

बैठक में कलेक्टर ने जिले में सड़क दुर्घटना की रोकथाम के उपायों के संबंध में विस्तृत चर्चा कर अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। श्री चन्द्रवाल सड़क सुरक्षा के उपायांे के अंतर्गत आम लोगों को हेलमेट पहनने के लिए प्रेरित करने हेतु मोटर सायकल से कार्यालय आने वाले सभी अधिकारी-कर्मचारियों के लिए हेलमेट का उपयोग अनिवार्य कराने के भी निर्देश दिए। कलेक्टर ने जिले के सभी अधिकारी-कर्मचारियों के अलावा मोटर सायकल का उपयोग करने वाले सभी लोगों के लिए हेलमेट का उपयोग अनिवार्य करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत एवं मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को सड़क सुरक्षा के उपायो के संबंध में जानकारी देने हेतु दीवाल लेखन एवं फ्लैक्स आदि लगवाने के भी निर्देश दिए। श्री चन्द्रवाल ने जिले के सभी अधिकारी-कर्मचारियों को जिले को दुर्घटना मुक्त बनाने के इस महति अभियान में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने को कहा।

बैठक में कलेक्टर श्री चन्द्रवाल के निर्देशानुसार जिला शिक्षा अधिकारी के द्वारा आज शिक्षा गुणवत्ता में सुधार हेतु शिक्षा विभाग द्वारा निर्धारित किए गए लक्ष्य एवं उपलब्धियों के संबंध में पावर प्वाॅइंट पे्रजेंटेशन माध्यम से जानकारी दी गई। इस दौरान जिला शिक्षा अधिकारी के द्वारा जिले में शिक्षा गुणवत्ता के सुधार हेतु शिक्षा विभाग के द्वारा निर्धारित किए गए लक्ष्य एवं उपलब्धियों के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई। जिला शिक्षा अधिकारी ने विद्यार्थियों के लिए आगामी शिक्षा सत्र में अध्ययन-अध्यापन की अनुकूल व्यवस्था के अलावा गणवेश, पाठ्यपुस्तक, मध्याह्न भोजन का संचालन आदि के संबंध में जानकारी दी। इसके अलावा शाला भवनों के निर्माण एवं मरम्मत कार्य आदि की भी जानकारी दी। कलेक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी को जिले में शिक्षा गुणवत्ता के सुधार हेतु पुख्ता उपाय सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

 

 

Leave Your Comment

Click to reload image