छत्तीसगढ़ / बालोद

बालोद कलेक्टर के आदेश की धज्जियां उड़ा रहा राजहरा नगर पालिका

 वार्डो में पानी की किल्लत ऐसी की लोग अपनी गाड़ियों में पानी डोहार रहे


बालोद। जिले की सबसे बड़ी नगर पालिका की लापरवाही और नगर पालिका की फिजूलखर्ची के कारण शहर के लोग पानी खोजने दर बदर भटक रहे। नगर पालिका अध्यक्ष अखबारों में टूटे नल की टोटी जुड़वाते अपनी एक्शन वाली फोटू खिंचवाते अखबारों में सुर्खिया बटोरते दिख जाते है लेकिन जहां शहर के लोगो को इस भीषण गर्मी में पानी की सबसे ज्यादा जरूरत है वहां लोगो का प्यास से हाल बेहाल है। बालोद कलेक्टर ने भी पानी की समुचित उपलब्धता और व्यवस्था के लिए निर्देश दिए हुए है फिर भी गर्मी के मौसम में नगर पालिका परिषद इस ओर ध्यान नहीं दे रही है।

बीते शनिवार को बालोद कलेक्टर इन्द्रजीत सिंह चन्द्रवाल ने कहा था कि जिले के सभी व्यक्तियों को शुद्ध पेयजल की समुचित उपलब्धता सुनिश्चित कराना हम सभी की पहली प्राथमिकता एवं दायित्व होनी चाहिए। उन्होंने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग एवं अन्य संबंधित विभाग के अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए कहा था कि जिले के किसी भी स्थान पर किसी भी स्थिति में आम लोगों को पेयजल की समस्या का सामना न करना पड़े। उन्होंने इसे ध्यान में रखते हुए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को कार्य योजना बनाकर उसे मूर्त रूप देने को कहा था। इसके लिए उन्होंने संबंधित विभाग के अधिकारियों को नियमित रूप से फील्ड विजिट कर वास्तविक स्थिति का पड़ताल करने के निर्देश भी दिए थे। 

बालोद कलेक्टर के आदेश का भी राजहरा नगर पालिका को खासा फर्क पड़ता नजर नहीं आ रहा है। नगर पालिका सीएमओ और नगर पालिका अध्यक्ष किसी और मामले में उलझे हुए है। जबकि राजहरा बस स्टैण्ड के यात्री प्रतीक्षालय में यात्रियों के लिए पंखे है ही नही और है भी तो वे खराब पड़े है। वही बस स्टैण्ड स्थित यात्री प्रतीक्षालय में ही शीतल पेय जल हेतु दानदाताओ ने ठंडे फ्रिज की व्यवस्था तो कर दी है लेकिन इनमें डालने के लिए नगर पालिका द्वारा पानी की कोई व्यवस्था ही नही है। भीषण गर्मी के इस तपते मौसम में बस में यात्रा कर रहे यात्रियों जिनमे बुजुर्ग महिलाएं और छोटे बच्चे भी शामिल है वे पानी के लिए राजहरा बस स्टैण्ड में दर बदर भटकने मजबूर हो गए है। 

बस स्टैण्ड में पानी की किल्लत के चलते ही यहां चल रहे दाल भात सेंटर में बंद हो गया है जहां गरीब लोग मात्र 30 रुपए में अपना पेट भरते थे। बिना पानी के इतने सारे लोगो के लिए भोजन और ताजा पानी की व्यवस्था करना मुश्किल है। खाना और पानी ना मिलने पर गरीब मजदूर और यात्रीगण बेहाल हो गए। वार्ड 24 के वार्ड वासियों ने इस समस्या के लिए नगर पालिका अध्यक्ष को कई बार निवेदन किया लेकिन वे टस से मस नहीं होते। उनका उद्देश्य केवल अपने चहेते ठेकेदारों को धनोपार्जन की गुप्त विद्या के माहिर बनाना ही है। उनके पार कोई छेरकूराम भी पहुंचकर उनका गुणगान करे तो वे उसे भी नगर पालिका में ठेकेदार बनाने की सुविधा दे देते है। 

दल्ली राजहरा स्थित नया बस स्टैण्ड में यात्रियों के लिए सुलभ शौचालय को समूचा तोड़कर दोबारा नया बनाया जा रहा है जिसे भी नगर पालिका राजहरा के ठेकेदार द्वारा महीनो से ईट पर ईट रखकर सुस्त चाल में बनाया जा रहा है। जिसके कारण महिला यात्रियों के लिए काफी भयावह स्थिति निर्मित हो गई है। नगर पालिका में भी इस संबंध में कोई बात करने को तैयार ही नहीं है। 

------------------
मैं इलाज के लिए रायपुर गई थी वापिस लौट रही हूं दल्ली बस स्टाप में ना पेशाब की व्यवस्था है और ना ही पीने के पानी का इंतजाम है। 

श्रीमती शोभना विश्वास, 
बस यात्री, कापसी पखांजूर से

------------------
"बस स्टैण्ड स्थित यात्री प्रतीक्षालय में पंखे बंद है और नल में पानी नहीं है इस संबंध में मुझे कोई जानकारी नहीं थी। आपके माध्यम से जानकारी हुई, तत्काल दिखवाता हूं और जल्द ही ठीक करवाता हूं। बस स्टैण्ड स्थित सुलभ शौचालय में काम धीमा है उसके लिए भी बोलता हूं।"

रमाकांत साहू
सीएमओ, नगर पालिका परिषद दल्ली राजहरा
 

Leave Your Comment

Click to reload image