देश-विदेश

मेजर राधिका सेन को मिला मिलिट्री जेंडर एडवोकेट ऑफ द ईयर अवार्ड

संयुक्त राष्ट्र । संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने गुरुवार को भारतीय सेना की मेजर राधिका सेन को मिलिट्री जेंडर एडवोकेट ऑफ द ईयर अवार्ड प्रदान करते हुए उन्हें सच्चा नेता और रोल मॉडल कहा। गुटेरेस ने डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो (एमओएनयूएससीओ) में संगठन स्थिरीकरण मिशन में शांति रक्षक के रूप में उनके काम के बारे में कहा, उनकी सेवा संयुक्त राष्ट्र के लिए एक सच्चा श्रेय है।

भारतीय सेना के एक चिकित्सक, नायक धनंजय कुमार सिंह, जो पिछले साल डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो (डीआरसी) में इसी मिशन में सेवा करते हुए शहीद हो गए थे, को समारोह के दौरान डैग हैमरशॉल्ड पदक से सम्मानित किया गया।

गुटेरेस ने कहा, सशस्त्र समूहों द्वारा युद्ध के लिए आधुनिक हथियारों का इस्तेमाल करने, डिजिटल तकनीक और कृत्रिम बुद्धिमत्ता का इस्तेमाल करने के बावजूद हमारे शांति रक्षक डटे हुए हैं।

इस अवसर पर मेजर सेन ने कहा कि वह एमओएनयूएससीओ में अपने सम्मानित सहयोगियों और अपने देश भारत की ओर से यह पुरस्कार प्राप्त करके बहुत सम्मानित और विनम्र महसूस कर रही हैं। उन्होंने कहा, यह पुरस्कार मेरे लिए विशेष है, क्योंकि यह एमओएनयूएससीओ के चुनौतीपूर्ण वातावरण में काम करने वाले सभी शांति सैनिकों द्वारा की गई कड़ी मेहनत को मान्यता देता है।

समारोह में दिखाए गए अपने काम के एक वीडियो में सेन ने कहा, महिलाओं और युवा लड़कियों को यह कहते हुए देखना मेरे लिए बहुत ही सुखद है कि वे एक महिला सैनिक को पुरुष और महिला दोनों सैनिकों की टीम का नेतृत्व करते हुए देखकर बहुत खुश और सशक्त महसूस करती हैं।

डीआरसी में शांति रक्षक के रूप में सेन के काम को याद करते हुए गुटेरेस ने कहा कि भारतीय दल के प्लाटून के कमांडर के रूप में, सेन ने उत्तरी किवु में बढ़ते संघर्ष के माहौल में अनगिनत बार अपनी इकाई का नेतृत्व किया। गुटेरेस ने कहा, विनम्रता, करुणा और समर्पण के साथ उनके नेतृत्व में, सैनिकों ने संघर्ष प्रभावित समुदायों, जिसमें महिलाएं और लड़कियां भी शामिल थीं, के साथ काम किया और उनका विश्वास जीता।

उन्होंने कहा कि महिलाओं के लिए अपने विचारों और चिंताओं को शेयर करने के लिए उन्होंने जो सुरक्षित और स्वागत योग्य मंच" विकसित किया, उसके कारण मोनुस्को उनकी जरूरतों को बेहतर ढंग से पूरा कर सकी। गुटेरेस ने कहा कि अपने सैन्य कर्तव्यों के अलावा, सेन ने डीआरसी में महिलाओं के लिए शैक्षिक और व्यावसायिक प्रयास भी किए।

सेन ने कहा, हमें महिलाओं के स्वास्थ्य और शिक्षा से लेकर लैंगिक समानता, महिलाओं के रोजगार और संघर्ष में यौन हिंसा से निपटने के साथ-साथ विभिन्न कौशल विकास कार्यक्रमों पर बातचीत करने के साथ-साथ समुदायों के साथ जुड़ने का अवसर मिला।

उन्होंने कहा, महिलाएं और लड़कियां संघर्षों में असमान रूप से प्रभावित होती हैं, उन्हें दुर्व्यवहार का अधिक जोखिम होता है, समय की मांग है कि महिलाओं को राष्ट्र निर्माण में मुख्यधारा में लाया जाए।

संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने देश और उनके परिवार की ओर से धनंजय कुमार सिंह का डैग हैमरस्कॉल्ड मेडल प्राप्त किया। धनजंय सिंह आर्मी मेडिकल कोर से संबंधित थे। उन्होंने एमओएनयूएससीओ के साथ नर्सिंग सहायक के रूप में काम किया।

सेन को 2023 में भारतीय रैपिड डिप्लॉयमेंट बटालियन के साथ एंगेजमेंट प्लाटून कमांडर के रूप में एमओएनयूएससीओ में नियुक्त किया गया था। उन्होंने अप्रैल 2024 में अपना कार्यकाल पूरा किया।

सेन मेजर सुमन गवानी के बाद यह सम्मान पाने वाली दूसरी भारतीय शांतिरक्षक हैं। उन्होंने दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन के साथ काम किया और 2019 में यह पुरस्कार प्राप्त किया। संयुक्त राष्ट्र शांति अभियानों में 6,063 भारतीय कर्मियों में से 1,954 एमओएनयूएससीओ के साथ काम करते हैं। इनमेें 32 महिलाएं शामिल हैं।

मेजर सेन को पुरस्कार मिलने पर भारतीय सेना ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा, भारतीय सेना मेजर राधिका सेन को संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय, न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस द्वारा कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में उनकी उत्कृष्ट सेवा के लिए 'यूएन मिलिट्री जेंडर एडवोकेट ऑफ द ईयर' पुरस्कार से सम्मानित किए जाने पर बधाई देती है।

उनका समर्पण और साहस एक बेहतर दुनिया के निर्माण में योगदान देने में महिला शांति सैनिकों की अमूल्य भूमिका को उजागर करता है। वह वास्तव में दुनिया भर में भारतीय शांति सैनिकों की प्रतिबद्धता और करुणा के चरित्र को दर्शाती हैं।

Leave Your Comment

Click to reload image